Thursday, August 27, 2009

मन

सबको खुश
देखती हूँ मै जब
मेरा मन भी
खिल उठता है ।

उदास किसी
को भी जब देखू
ये भी अनमना
सा हो जाता है ।

दूर जो है अपने
अभी मुझसे
पाती हूँ उन्हें भी
अपने ही पास ।

अपने मन को
जंहा चाहे वंहा भेजू
ऐसी जादुई शक्ति
जो है मेरे पास ।

12 comments:

meenal said...

nicely written about man

Swatantra said...

kahaan se milli aapko yeh zaduiyee shakti!!

shruti said...

Beautiful!
Kaash yeh jaduai shakti hamare paas bhi hoti....

AnjuGandhi said...

even i want taht jaadui shakti
please let me know where to find it

shilpa said...

dilki bateein to dil hi jaane par apne kitne ache se iske baare mein bataya shukriya

Amita said...

yeh Jadui Shakti hamesha Aap ke paas rahe !!

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

कल 10/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

vandana said...

अपने मन को
जंहा चाहे वंहा भेजू
ऐसी जादुई शक्ति
जो है मेरे पास ।

vaah!!!

आशा said...

जादुई शक्ति काश सब के पास होती |
आशा

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपके पास तो है न जादुई शक्ति ... मेरे पास तक तो पहुँच गया आपका मन .. :):)

सागर said...

bhaut hi khubsurat abhivaykti....

सदा said...

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।