Thursday, August 27, 2009

आशंकाए

आशंकाए इनसे
सभी दूर भागते
फिर भी आ सर
मंडराने लगती है |

ऐसे मे जीना
हो जाता है दूभर
और दिल की
धड़कने भी बड़ती है |

धैर्य भी किनारा
कर लेता है
हम तब असहाय
महसूस करते है |

ऐसे मे सांतवना
के कुछ शव्द
हमारा मनोबल बढाने
का काम करते है |

2 comments:

shruti said...

u are right !
few words of love and sympathy not only motivates a person to fight but also gives a new hope of winning...

AnjuGandhi said...

yeh to bahut aam baat hai, hum sab aashankao ke karan dukhi rahte hai
and unpar apna bas bhi nahi hai
par asie mein kisi ka sahara mil jaaye and koi pyaar se bol kar sahara de de to har mushkil ka saamna karne ki shakti mil jaati hai