Friday, November 13, 2009

फ्रेम

सत्ता की ना हो चाह ,
रखे ,जन - हित मे
वो अपना पूरा ध्यान
कुछ करने का बस हो जज्बा
दिल मे , और देश से हो
उनका अगाध प्रेम । ।
कैसी आशाये ले बैठी ?
अब वो त्याग , समर्पण कंहा ?
वैसे नेता तो टंग चुके है
और शोभा बड़ा रहे है
सरकारी भवनों की बस
दीवारों पर , बनके फ्रेम । ।

16 comments:

विवेक सिंह said...

अजीब संयोग है, आज हमारी पोस्ट की मूल भावना यहाँ भी !

sangeeta said...

बिलकुल सही कह रहे हैं की बस फ्रेम
दीवारों पर लटके हैं...और वक़्त बेवक्त उन नेताओं को याद कर लिया जाता है

बहुत अच्छा कटाक्ष है.

dr. ashok priyaranjan said...

मेरी कविताओं पर भी आपकी राय अपेक्षित है। यदि संभव हो तो पढ़ें-

http://drashokpriyaranjan.blogspot.com

KAVITA RAWAT said...

वैसे नेता तो टंग चुके है
और शोभा बड़ा रहे है
सरकारी भवनों की बस
दीवारों पर , बनके फ्रेम ।
Bilkul Sahi baat netaon ne to desh ka beeda gark karke rakha hai. Sift apna ghar bharne ke siway kuch dikhta hi nahi inko.
Badhai

दिगम्बर नासवा said...

Neta bas frem mein lage rahne ko hi bach gaye hain aaj .... desh ke liye kuch bhi karne ka jazba aaj khatat ho gaya hai .... aapki sochti huyee rachna aur sochne ko majboor karti hai ....

ज्योति सिंह said...

aapas ke jhagre se mile jo fursat ,swarth se jab soche upar .kam bole aur karm pe de dhyaan ,jimmedaariyon ko samjhe lakshya ,tab neta honge mahan ,tasvir banegi unki misaal .dikhayegi sahi raah ,magar yahan janta hi sahi raah dikhati hai .aur vote ke waqt naare lagte hai ,jaago janta jaago aur jaga kar vado se swyam hi so jaate hai .

Nirmla Kapila said...

वैसे नेता तो टंग चुके है
और शोभा बड़ा रहे है
सरकारी भवनों की बस
दीवारों पर , बनके फ्रेम ।
बहुत खूब सटेक अभिव्यक्ति शुभकामनायें

sm said...

that frame is also used for the politics and greed.

डॉ.पदमजा शर्मा said...

आज के नेताओं और आज़ादी पूर्व के देश भक्त नेताओं में एक ही अंतर है -ये 'अपने लिए' जीते हैं और वे 'औरों के लिए' जीते थे .

Harkirat Haqeer said...

कैसी आशाये ले बैठी ?
अब वो त्याग , समर्पण कंहा ?
वैसे नेता तो टंग चुके है
और शोभा बड़ा रहे है
सरकारी भवनों की बस
दीवारों पर , बनके फ्रेम

देश के प्रति अपनी चिंता दर्शाती आपकी ये कविता एक करारा तमाचा है उन खोखले दंभ भरते नेताओं पर जो तस्वीर भर लगा कर अपना दायित्व पूरा कर लेते हैं .....!!

Babli said...

कैसी आशाये ले बैठी ?
अब वो त्याग , समर्पण कंहा ?
अत्यन्त सुंदर पंक्तियाँ! बिल्कुल सही कहा है आपने ! बहुत ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है !

राकेश कौशिक said...

छोटी मगर सन्देशपूर्ण रचना. सिर्फ नेता ही नहीं, "देशप्रेम" हम सब के लिए भी किताबी शब्द बनकर रहा गया है. सार्थक प्रयास.

JHAROKHA said...

सुन्दर व्यंग्य---कम शब्दों में।
पूनम

लता 'हया' said...

शुक्रिया ग़ज़ल के साथ साथ आवाज़ को भी अहमियत देने के लिए ;
आपकी रचनायें पढ़ कर 'दिल' में आज के माहौल के प्रति कुछ 'खटास 'तो भर गयी लेकिन आपकी दूध में ..............वाली पंक्ति तो ज़हन के 'frame में मजबूती से जढ़ चुकी है . '

संजय भास्कर said...

सुंदर रचना....

SANJAY KUMAR
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Dr.Ashok said...

jo frame mein latak gaye, woh ab kutch kar sakte nahin, aur baki sab kisi na kisi case mein frame hone layak hain.
ab unko yaad karo, lekin inko kaise yaad dilayen, inki khaal bhi itni moti hai aur buddhi itni choti hai ki inhe desh kahin dikhta hi nahin.
well done. very good