Monday, November 2, 2009

अपनत्व

अपनत्व ही
मेरा शस्त्र है ।
अपनत्व ही
है मेरी ढाल ।

अपनत्व से सदा
घिरी , सुरक्षित
हूँ मै ,नही डर
आए कोई भूचाल ।

17 comments:

रश्मि प्रभा... said...

अपनत्व की ढाल, अपनत्व की गरिमा, अपनत्व की महिमा.......
एक अपनेपन का अपना-सा पैगाम , वाह !

Nirmla Kapila said...

अपनत्व मे तो पूरी सृ्ष्टी ही समा जाती है बहुत सुन्दर शुभकामनायें धन्य्वाद्

नीरज गोस्वामी said...

सीधी सच्ची दिल की बात...सरल शब्दों में....वाह...
नीरज

ओम आर्य said...

bahut hi sundar bhaw ki rachana ....badhiya ...........badhaee!

शोभना चौरे said...

isi apntv ke liye to log trste hai
aapke is apntv ko dher sara apntv .
abhar

Apanatva said...

आपके सराहना भरे ये चार शव्द कितना अर्थ रखते है इसका आपको आभास भी नहीं होगा . आभार

ज्योति सिंह said...

apnepan me bahut takat hoti hai sahi farmaaya aapne .

sangeeta said...

अपनत्व से सदा
घिरी , सुरक्षित
हूँ मै ,नही डर
आए कोई भूचाल ।

jisake paas apnatva ho use kisi se darane ki zaroorat hi nahi....sundar abhivyakti..

Harkirat Haqeer said...

दुआ है आपकी ये अपनत्व की ढाल सदा बरकरार रहे ......!!

आनन्द वर्धन ओझा said...

किसी भी डाल पर तूफ़ान का होगा नहीं असर,
जब तना अपनत्व से थामेगा शाख को,
शाखें रहेंगी बेअसर !

sm said...

honest words

लता 'हया' said...

der se hi sahi lekin aate hi aapne apnatva dikhane mein zara bhi aalas nahin dikhaya,mujhe yaqeen hai ki aap apne vishvas aur mansikta mein yun hi santulan banaye hue yahan ghumte huye phir mere blog tak aakar tare si raushan ek dua de jayeingi. SHUKRIA

Babli said...

वाह बहुत खूब लिखा है आपने ! इस भावपूर्ण और बेहतरीन रचना के लिए बधाई!

दिगम्बर नासवा said...

अपनत्व ही
मेरा शस्त्र है ।
अपनत्व ही
है मेरी ढाल ....

अपने पर पूर्ण विशवास ही इंसान को हर कठिनाई पार करने की शक्ति देता है .......... बहुत सार्थक लिखा है ....

Swatantra said...

The best words from you.. superb!!

Science Bloggers Association said...

इस अपनत्व को नजर न लगे, हमारी यही कामना है।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

Rakesh said...

apnatav ki dhaal agar hoo herek ke paas to prem apne shikher per hamare vatavarn per fail jaye aur viswas aur shardha kemurjaye foolon per fir lali aaye....acha hai ..apnatav baten....