Wednesday, September 22, 2010

कोमनवेल्थ गेम्स .............क्या होगा ?
कालमाडी .............. क्या किया ?
कश्मीर ............. क्या हो रहा है ?

क क क

क कहर ढो रहा है ?
क पर कहर हो रहा है ?
क्या हो रहा है ?


25 comments:

Bhushan said...

'क' से कहा बहुत कुछ.

वाणी गीत said...

क से क्या , क से क्यूँ हो रहा है ..?

राजभाषा हिंदी said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
काव्य प्रयोजन (भाग-९) मूल्य सिद्धांत, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

प्रवीण पाण्डेय said...

भारत का नया ककहरा।

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

'क' से किसके लिए हो रहा है?
'क' से क्यों हो रहा है?
'क' से कब तक होगा?
'क' से कौन है जिम्मेदार इसका?

रचना दीक्षित said...

क्या बात है!!!!!
क्या क्या लिखा जा रहा है
हमें तो पढ़ कर ही मजा आ रहा है

Parul said...

ekta kapoor ka 'k' ab gov ne hire kar liya hai :)

इमरान अंसारी said...

मेरे ब्लोग्स पर आपकी टिप्पणी का और उन्हें फॉलो करने का तहेदिल से शुक्रिया |

सम्वेदना के स्वर said...

क्या से क्या हो गया ?
कोई कुछ करता क्यों नहीं?
कौन करेगा ?

क्या मैं ?
क्या तुम ?
क्या सरकार?

कैसे?
क्यों?
कब?

निर्मला कपिला said...

क से कविता हो गयी। बधाई।

मनोज कुमार said...

कमाल की कविता का क्या कहना!!! बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

देसिल बयना-गयी बात बहू के हाथ, करण समस्तीपुरी की लेखनी से, “मनोज” पर, पढिए!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

कौन कहेगा ?

ककहरा का कमाल :)

डॉ टी एस दराल said...

लगता है सब क का करिश्मा है ।

anjana said...

Happy Anant Chaturdashi
GANESH ki jyoti se noor miltahai
sbke dilon ko surur milta hai,
jobhi jaata hai GANESHA ke dwaar,
kuch na kuch zarror milta hai
“JAI SHREE GANESHA”

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

कल की कल्पना से कराह उठता है मन और कल नहीं पड़ता कि क्या होगा कॉमंवेल्थ क्रीड़ा के क्रमशः कँपा देने वाले काण्डों के कारण. कैसी करुण कथा है क्रीड़ा के कालखण्ड की जो काले बाज़ार और कलह की कालिख से काल के पृष्ठ पर कलमबंद होगी.

JHAROKHA said...

Adaraneeya Sarita Dee,
Apne to Ka ke madhyam se bahut gambheer prashn uthaye hain----.Gambheer post....
Poonam

ज्योति सिंह said...

is vishya par kafi charcha sun rahi hoon aur yahan aapne ise 'k'ke madhyam se ujagar kiya hai badi hi sundarata se .

Arvind Mohan said...

dat wat we are facing right now...
its our duty to think about it
at the same time we are losing our families...this must never happen.
i read a story here @
http://arvrocks.blogspot.com/2010/09/can-i-borrow-rs25.html
hope many of you would really appreciate it and also some of the neighbouring stories.

Arvind Mohan said...

dat wat we are facing right now...
its our duty to think about it
at the same time we are losing our families...this must never happen.
i read a story here @
http://arvrocks.blogspot.com/2010/09/can-i-borrow-rs25.html
hope many of you would really appreciate it and also some of the neighbouring stories.

Arvind Mohan said...

Thanks for the visit
Important things in life
click to see
this story tells the same but it says in different manner
like whatever the condition may be
its you who set your priorities.
Priority always matters.

Swarajya karun said...

आपने 'क' के कई सारे कमाल दिखाए . पता नहीं यह 'क' और क्या- क्या कमाल करेगा . कितनों को कंगाल और कितनों को मालामाल करेगा ?
एक छोटी लेकिन अच्छी कविता के लिए बधाई .

sheetal said...

sahi kaha aapne .

रंजना said...

क से जबतक कांग्रेस रहेगा...क से कहर ही बरपा करेगा...
बहुत सही कविता/प्रश्न ...

अरुणेश मिश्र said...

प्रभावी लिखा है ।

शरद कोकास said...

कब ?