Sunday, June 7, 2009

अतीत

अतीत की बिखरी यादों को

चुन चुन कर मैंने बीना है

मधुर स्मृतियों का है ये भंडार

इसी के सहारे अब जीना है।

1 comment:

Dr.Ashok said...

Ateet ka bhandaar jindagi jeene ka marg prashast kar sakta hai, lekin iske sahare jindagee kaati nahi jaati, jindagi jeene ke liye roz naya socho aur age badho, abhi to jindagi bahut si jeeni hai......