Wednesday, June 29, 2011

रंग

जब दिल और
दिमाग मे
छिड जाती है
कभी जंग ।

धड़कने बड़
ही जाती है
मन शांति हो
जाती है भंग

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।

नई कूची से
भरता रहता
ये जीवन मे
नये नये रंग ।

40 comments:

डॉ. मोनिका शर्मा said...

आत्मविश्वास हर परिस्थिति में जीवन को आशा के रंग में रंग देता है..... सुंदर

Bharat Bhushan said...

नई कूची से
भरता रहता
ये जीवन में
नये नये रंग ।
यही तो जीवन है. आत्मविश्वास जीवन का सब से बड़ा संबल है. इसे पहला ईश्वर कहा जाता है.

प्रवीण पाण्डेय said...

इस उहापोह में आत्मविश्वास ही सामने आता है, बचाने के लिये।

Satish Saxena said...

हर क्षण नवीनता को हँसते हुए स्वीकारना ही जीवन में रंग बिखेरता है ! आशा है अब आप स्वस्थ हैं ....
शुभकामनायें आपको !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आत्मविश्वास हो तो हर रंग खिल उठता है ..

रश्मि प्रभा... said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।bahut khoob

सदा said...

आत्‍‍मविश्‍वास का संबल हमेशा पास होना भी चाहिये ..प्रेरणात्‍मक पंक्तियां ...आभार ।

vandan gupta said...

आत्मविश्वास ही सदा बना रहना चाहिये।

मुकेश कुमार सिन्हा said...

aatmvishwas ko jagati rachna..

Anonymous said...

"सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।

नई कूची से
भरता रहता
ये जीवन मे
नये नये रंग"

सार्थक जीवन की यही कुंजी.

बहुत खूब

Sushil Bakliwal said...

आत्मविश्वास की लौ प्रचंड बनी रहे । हार्दिक कामनाएँ...

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

एक प्रेरणा दायक कविता...

डॉ टी एस दराल said...

दिल और दिमाग की जंग में आत्म विश्वास ही काम आता है ।
सुन्दर कथन ।

रेखा said...

धड़कने बढ़
ही जाती है
मन शांति हो
जाती है भंग

रचना दीक्षित said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।

जीवन की सफलता में आत्मविश्वास का पूरा हाथ रहता है. आत्मविश्वास हर जग में विजय दिला सकता है.

kshama said...

Bade dinon baad aapko padhne kaa mauqa mila....bahut sundar!

Suman said...

bahut sunder ........

मनोज भारती said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।

नई कूची से
भरता रहता
ये जीवन मे
नये नये रंग ।

इन रंगों से ही
जीवन मधुर हो
उत्सव मनाता है
उत्साह के पंख से

आत्म-प्रेरणा से परिपूर्ण कविता ...बहुत खूब!!!

upendra shukla said...

आत्मविश्वास के सम्बन्ध में आपकी कविता बड़ी अच्छी लगी
"samrat bundelkhand"

mridula pradhan said...

wah.kya baat likh di.very good.

Urmi said...

आत्मविश्वास हो तो हर काम आसान हो जाता है और कामयाबी ज़रूर मिलती है! बहुत सुन्दर रचना!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

दिगम्बर नासवा said...

सच है आत्मविश्वास बहुत काम की चीज़ है ...

संजय @ मो सम कौन... said...

आत्मविश्वास तो वाकई जीवन को सुंदर रंगों से भर देता है।

Arvind Mishra said...

आशा और स्फूर्ति का आह्वान करती कविता
बड़ा =बढ़ा

Rakesh Kumar said...

अपनत्व के आत्मविश्वास का रंग बहुत भाया Apanatva ji.
जीवन की जंग 'आत्मविश्वास'से ही तो जीती जाती है.
सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.आपका हार्दिक स्वागत है.

Vivek Jain said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग,

बहुत सुंदर,

विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

क्या बात है, बहुत अच्छा

JAGDISH BALI said...

small but beautiful.

Kunwar Kusumesh said...

beautifully written.

कविता रावत said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।
..yahi to hai jo jeewan mein rang bharta hai....
bahut badiya!

Bharat Bhushan said...

आपने राही पर लिखी जिस कविता का उल्लेख किया है, उसे पढ़ कर मुझे खुशी होगी. मेरा ई-मेल पता है
bhagat.bb@gmail.com
आभार.

Bharat Bhushan said...

टिप्पणी के रूप में आपकी कविता दस पृष्ठों की पोस्ट से अधिक बात कहती है. मुँह से 'वाह' निकल गई.
आपका आभार.

RAJWANT RAJ said...

ise hi khte hai apne aap ko phchanna our use smmanpoorvk prtishthit krna .

Akanksha Yadav said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।

...यही तो जीवन की पूंजी है...शानदार पोस्ट...बधाई.

_______________
शब्द-शिखर / विश्व जनसंख्या दिवस : बेटियों की टूटती 'आस्था'

amrendra "amar" said...

नई कूची से
भरता रहता
ये जीवन में
नये नये रंग ।

jeet liya aapne man ......sunder rachna

प्रज्ञा पांडेय said...

aapki saari kavitayen sundar hain .

संजय भास्‍कर said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग ।
... आत्मविश्वास विजय दिला सकता है.

ज्योति सिंह said...

सुकून है
आत्मविश्वास
सदा रहता
है मेरे संग
bahut badhiya ,sach kaha aapne

Bharat Bhushan said...

कभी-कभी कमेंट पोस्ट नहीं हो पाता. यह कठिनाई आती है. या तो उस समय ब्लॉगर अपने ब्लॉग पर कार्य कर रहा होता है या गूगल वाले कुछ कर रहे होते हैं. ऐसी स्थिति में ईमेल से टिप्पणी भेजी जा सकती है. जिसे कॉपी-पेस्ट किया जा सकता है. पोस्ट पर आने के लिए आपका बहुत आभार.

virendra sharma said...

धडकनें बढ़ ही जातीं हैं ,
मन शान्ति हो जाती है भंग ।
सृजन को उकसाती कविता ।
आपकी त्वरित प्रतिकिर्या का आभारी हूँ .