Sunday, March 20, 2011

होली और जज़्बात

चलिये आज हम सब

जाति धर्म के नाम

फूट डालने वाले जज्वातों को

होली के साथ भस्म कर डाले

" खून का रंग एक है "

इस नारे के साथ

भाई चारे का पैगाम

हर रंग मे रंग नीले आसमां तले

मिलकर बिखेर डाले।


ये ही जज़्वात पिछले साल भी मैंने ज़ाहिर किये थे

31 comments:

kshama said...

Kya baat hai! Wah! Behtareen khayalaat!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

खुशामदीद ...बेहतरीन ख़याल ..होली कि शुभकामनायें

Bhushan said...

आपका होली पर ऐसे उत्तम विचारों के साथ आना भा गया. बहुत सुंदर विचार और भावनाएँ. शुभकामनाएँ.

डॉ टी एस दराल said...

बहुत सुन्दर ज़ज्बात ।
दिल से दिल मिलाने वाली बात ।
शुभकामनायें ।

प्रवीण पाण्डेय said...

बस यही दो कार्य करने हैं होली में।

सतीश सक्सेना said...

स्वागत है आपका और इन खूबसूरत विचारों का ! सादर

रचना दीक्षित said...

हम सब भी सुन्दर ज़ज्बात की कद्र करते है. सुंदर विचार और भावनाएँ. होली की एक बार फिर शुभकामनाएँ.

दीप said...

ji bahut achha laga ki aap jaise vidwat jan bhi hamaari kavita ko bade chav se padhaten hain.
aap ki protsaahan bhari tippdi ka swagat karte hue aap k prati abhaar pragat karta hoon.

mridula pradhan said...

wah.....bahut achcha laga.....

रश्मि प्रभा... said...

arthbhare jazbaat

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छे ज़ज़्बात!
हार्दिक शुभकामनाएं।

संजय भास्कर said...

वाह क्या रंगीली रचना है !
आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

संजय भास्कर said...

रंगों का त्यौहार बहुत मुबारक हो आपको और आपके परिवार को|
कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

मलखान said...

आपके जज्बातों की कद्र करते हैं. क्योंकि ये अच्छे हैं, ये नेक हैं, बेशक.

मेरे ब्लॉग पर आने के लिए थँक्स

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर सन्देश!
होली की शुभकामनाएँ!

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बेहतरीन ख़याल ..होली की शुभकामनायें

sm said...

जाति धर्म के नाम
फूट डालने वाले जज्वातों को
होली के साथ भस्म कर डाले ।
beautiful poem

ज्योति सिंह said...

aese sundar vicharo ke saath hum sada hai ,haapy holi .tabiyat me sudhar dekh khushi hui .

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

आपकी इच्छा पूरी हो, शुभकामनायें!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

सुंदर विचार, सार्थक प्रस्‍तुति।

होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं।
धर्म की क्रान्तिकारी व्या ख्याa।
समाज के विकास के लिए स्त्रियों में जागरूकता जरूरी।

shail said...

Holi ke rang se rachi kavita ..Wah

Dinesh pareek said...

वाह वाह के कहे आपके शब्दों के बारे में जीतन कहे उतन कम ही है | अति सुन्दर
बहुत बहुत धन्यवाद् आपको असी पोस्ट करने के लिए
कभी फुरसत मिले तो मेरे बलों पे आये
दिनेश पारीक

कविता रावत said...

जाति धर्म के नाम
फूट डालने वाले जज्वातों को
होली के साथ भस्म कर डाले ।
...yahi to saarthak sandesh hona chahiye.... bahut achhe jajbaat...
Maa ji aapka swasthya achha hai yah jaankar bahut achha laga...
samay nahi mil paa raha hai isliye bahut late huyee phir bhi holi aur rangpanchmi kee haardik shubhkamna

Patali-The-Village said...

सुंदर विचार, सार्थक प्रस्‍तुति।

neelima sukhija arora said...

nice one

शोभना चौरे said...

सरिता जी
बहुत दिनों बाद आपको पढ़ा |
मै अभी बेंगलोर में हूँ कैसे सम्पर्क किया जाय बताये |
शोभना

मदन शर्मा said...

पहली बार आपकी पोस्ट पे आया .
आपका होली पर ऐसे उत्तम विचार! बहुत ही अच्छा लगा. आप ने मेरे मन की बातों को अपने शब्दों में बड़ी खूबसूरती से व्यक्त किया है. इसके लिए बहुत धन्यवाद आपका. बहुत सुंदर विचार और भावनाए हैं आपकी!
हार्दिक शुभकामनायें हैं आपको !!
कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

मदन शर्मा said...

पहली बार आपकी पोस्ट पे आया .
आपका होली पर ऐसे उत्तम विचार! बहुत ही अच्छा लगा. आप ने मेरे मन की बातों को अपने शब्दों में बड़ी खूबसूरती से व्यक्त किया है. इसके लिए बहुत धन्यवाद आपका. बहुत सुंदर विचार और भावनाए हैं आपकी!
हार्दिक शुभकामनायें हैं आपको !!
कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

Apanatva said...

shobhanajee aap mujhe apana bangalore ka phone number de deejiye mai sheeghratisheeghr aapse sampark kar lungee.

prateeksha hai....

: केवल राम : said...

आपने एक वैश्विक ख्याल को रचना के माध्यम से अभिव्यक्त किया है ..और यह आपकी सुंदर सोच का परिणाम है ..आपका आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए ..देरी के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ..!

Kunwar Kusumesh said...

beautiful thoughts.